Home / आलेख (page 2)

आलेख

राहुल गांधी गली-गली घूम रहे हैं…!

राहुल गांधी अब तो गली मोहल्लों में घूमकर कांग्रेस की उखड़ी  जमीन को फिर से जमाने पर गम्भीरता से तुले हैं, जिसके अच्छे परिणाम भी आने की कुछ उम्मीद दिखाई देती है। आम आवाम में कांग्रेस के गांधी, नेहरू, पटेल, कामराज आदि की छवि अभी भी बरकरार है। बीच में …

Read More »

मनु की पुत्री के नाम से बसा था इल्हावास ,अकबर ने किया इलहाबाद     

डा. महताब अमरोहवी  मनु की पुत्री  इला का नगर है इलावास उर्फ इलाहाबाद !  संसार में बेटी के नाम पर बसा लगभग अकेला नगर है इलावास, जिसका नाम अकबर ने कम बदला , आधुनिक अकबरों एवं उन  के साथियों ने पूरा बदल दिया। इलावास नाम इलाहाबाद नगर के लिए प्रयाग …

Read More »

हादसे-मुआवज़े-आरोप-प्रत्यारोप और मानव जीवन

तनवीर जाफरी बुराई पर अच्छाई की जीत का पवर्, विजयदशमी का जश्र मना रहे देशवासियों को एक बार फिर उस समय गहरा सदमा पहुंचा जबकि देश में चारों ओर से रावण दहन के समाचार आने के साथ-साथ अमृतसर के उस हादसे की दर्दनाक खबर सुनाई दी जिसमें कि रावण दहन …

Read More »

जातिवादी जड़ता की दीवारों का खड़ा होना

-ललित गर्ग- मध्यप्रदेश में जातिगत भेदभाव का एक और मामला सामने आया है। जबलपुर में एक डाॅक्टर के साथ जो हुआ, वह किसी भी विकासमान कहे जाने वाले समाज के सभ्य एवं सुसंस्कृत होने पर सवालिया निशान लगाता है। यह एक विभीषिका है। इस विभीषिका को कम करने के लिए …

Read More »

घूसखोरी में अव्वल होता भारत!

-ललित गर्ग- देश एवं समाज में रिश्वत देने वालों व्यक्तियों की संख्या बढ़ रही है, ऐसे व्यक्तियों की भी कमी हो रही है जो बेदाग चरित्र हों। विडम्बना तो यह है कि भ्रष्टाचार दूर होने के तमाम दावों के बीच भ्रष्टाचार बढ़ता ही जा रहा है। भ्रष्टाचार शिष्टाचार बन रहा …

Read More »

फिर अमृतसर ने देखा ‘जलियांवाला बाग’ भाग दो

आर.के.सिन्हा गुरुओं की नगरी अमृतसर में दशहरे के दिन जो कुछ भी घटित हुआ उससे सारे देश का मर्माहत होना समझ आता है। रावण वध को देखने जुटी श्रद्धालुओं की भारी भीड़ पर कहर टूट पड़ा। अमृतसर ने लगभग 100 सालों के बाद एक फिर से जलियांवाला बाग की यादें …

Read More »